जमीन की रजिस्ट्री कैसे होती है? Land Registry In Hindi (फीस, आवश्यक दस्तावेज)

Jamin Registry | Land Registry In India Hindi | जमीन का रजिस्ट्री कैसे किया जाता है | Registry Fees

Bihar bhumi jankari : यदि आप कोई जमीन खरीदने जा रहे है तो Jamin Registry In Hindi में जानकारी आप के लिए और यदि आपने जमीन को खरीद लिए है तो आपको Land Registry करनी होगी जिससे आप पूरी तरह उस खरीदी जमीन का मालिक बन जाए। यह कराना बहुत आवश्यक नहीं तो आप वाद विवाद में अपनी जमीन खो सकते है।

जमीन की रजिस्ट्री कराने के बाद आपको Mutation भी करना होता है। इसके बाद आप पूरी तरह मालिक बन जाते है। आप निचे लेख में Land Registry In Hindi की पूरी प्रक्रिया देख सकते है।

Land Registry India In Hindi जमीन की रजिस्ट्री कैसे की जाती है?

भारत में भूमि रजिस्ट्री प्रक्रिया में कई चरण शामिल हैं जिनका विक्रेता और खरीदार दोनों को पालन करना होता है। यहां उदाहरणों, शुल्कों और आवश्यक दस्तावेजों के साथ चरण-दर-चरण प्रक्रिया दी गई है:

Step1: Property Verification जमीन को वेरीफाई करे

  • खरीदार को जमीन के मालिक, वैधता और बाधाओं को वेरीफाई करना चाहिए।
  • इसमें खतौनी दस्तावेजों की जांच करना, जमींदार के मलिकी का वेरिफिकेशन करना और यह सुनिश्चित करना शामिल है कि कोई कानूनी विवाद या बकाया राशि लंबित नहीं है।
  • खरीदार इस प्रक्रिया में सहायता के लिए एक वकील या संपत्ति सलाहकार को नियुक्त कर सकता है।

Step2: Sale Agreement बिक्री समझौता बनाना

  • एक बार जब खरीदार जमीन को वेरीफाई कर संतुष्ट हो जाता है, तो Sale Agreement/Deed तैयार किया जाता है।
  • यह समझौता बिक्री के नियमों और शर्तों को रेखांकित करता है, जिसमें खरीद मूल्य, भुगतान अनुसूची और अन्य प्रासंगिक विवरण शामिल हैं।
  • खरीदार और विक्रेता को समझौते पर हस्ताक्षर करने की आवश्यकता होती है, और इसके लिए नोटरीकरण की आवश्यकता हो सकती है।

Step3: Stamp Duty Payment स्टाम्प का कार्य

  • स्टाम्प ड्यूटी एक राज्य-विशिष्ट शुल्क है जो संपत्ति लेनदेन पर देय है।
  • खरीदार को संपत्ति के मूल्य और राज्य सरकार द्वारा निर्धारित लागू दरों के आधार पर स्टांप शुल्क का भुगतान करना होगा।
  • स्टाम्प ड्यूटी राज्यों के हिसाब से अलग-अलग हो सकती है।
  • उदाहरण के लिए, यदि संपत्ति का मूल्य 50 लाख रुपये है और स्टांप शुल्क दर 6% है, तो खरीदार को स्टांप शुल्क के रूप में 3 लाख रुपये का भुगतान करना होगा।

Step4: Registry Process रजिस्ट्री पंजीकरण

  • अगला कदम जमीन को Sub Registry Office में पंजीकृत करना है।
  • पंजीकरण प्रक्रिया के दौरान खरीदार और विक्रेता दोनों को उपस्थित रहना होगा।
  • आमतौर पर ये सभी दस्तावेज़ों की आवश्यकता होती है:
    • बिक्री समझौता
    • स्टांप शुल्क रसीद
    • खरीदार और विक्रेता का पहचान प्रमाण (जैसे आधार कार्ड, पैन कार्ड या पासपोर्ट)।
    • खरीदार और विक्रेता की पासपोर्ट आकार की तस्वीरें
    • संपत्ति के दस्तावेज़ (पिछले कार्य, स्वामित्व की श्रृंखला, आदि)
  • ऋणभार प्रमाणपत्र (यह सुनिश्चित करने के लिए कि संपत्ति पर कोई ऋण या देनदारी लंबित नहीं है)
  • Registry Fee संपत्ति के मूल्य का एक प्रतिशत है और अलग-अलग राज्यों में अलग-अलग होता है।
  • मान लीजिए कि पंजीकरण शुल्क संपत्ति मूल्य का 1% है, यानी, 50,000 रुपये।

Step5: Document Verification and Approval

  • पंजीकरण के लिए दस्तावेज जमा करने के बाद, उप-रजिस्ट्रार कार्यालय विवरण का सत्यापन करता है और संपत्ति दस्तावेजों की गहन जांच करता है।
  • यदि सब कुछ सही पाया गया तो दस्तावेजों को मंजूरी दे दी जाएगी।

Step6: Execution of Sale Deed

  • एक बार दस्तावेज़ स्वीकृत हो जाने के बाद, Sub Registry Office द्वारा एक Sale Deed तैयार किया जाता है।
  • Sale Deedएक कानूनी दस्तावेज है जो विक्रेता से खरीदार को स्वामित्व अधिकार हस्तांतरित करता है।
  • दोनों पक्षों को दो गवाहों की उपस्थिति में विक्रय पत्र पर हस्ताक्षर करना होगा।
  • खरीदार को इस स्तर पर लागू पंजीकरण शुल्क और अन्य संबंधित शुल्क का भुगतान करना होगा।

Step7: कब्ज़ा सौंपना और भुगतान करना

विक्रय विलेख के निष्पादन पर, खरीदार सहमत शर्तों के अनुसार शेष भुगतान करता है।
विक्रेता सभी प्रासंगिक दस्तावेजों, चाबियों और अन्य सहमत वस्तुओं के साथ संपत्ति का कब्जा खरीदार को सौंप देता है।

Step8: Updating Land Bhulekh Records

  • अंत में, खरीदार को स्थानीय नगरपालिका प्राधिकरण, उपयोगिता सेवा प्रदाताओं और अन्य संबंधित संस्थाओं के साथ स्वामित्व रिकॉर्ड अपडेट करना चाहिए।
  • यह सुनिश्चित करता है कि संपत्ति का स्वामित्व आधिकारिक तौर पर सभी प्रशासनिक उद्देश्यों के लिए खरीदार के नाम पर स्थानांतरित कर दिया गया है।

Bihar Land Registry बिहार में जमीन का रजिस्ट्री क्या है

Jamin ki registry नहीं लगने वाले पैसे मुख्य रूप से स्टांप ड्यूटी चार्ज होता है जिसके माध्यम से रजिस्ट्री में खर्च आता है हालांकि सभी जमीनों के अलग-अलग अनुसार से स्टांप ड्यूटी लगाई जाती है जैसे कि गांव में जमीन खरीदने पर कम चार्ज लिया जाता है और शहरों पर जमीन लेने पर अधिक चार्ज लिया जाता है इसलिए ड्यूटी चार्जेस कम ज्यादा होते रहते हैं तो जमीन रजिस्ट्री करने में कितना पैसा खर्चा होता है लोग अक्सर पूछते हैं यह निर्भर करता है उनके जगह अनुसार जैसे की हम ने बता रखा है।

जमीन रजिस्ट्री की फीस bihar

रजिस्ट्री Fees की बात करें तो स्टांप ड्यूटी पर निर्भर करता है और आपकी जमीन के अनुसार चार्ज बढ़ जाता है जैसे कि गांव की जमीन है तो कम चार्ज लगेगा और शहर में जमीन खरीदते हैं तो उसके स्टांप ड्यूटी चार्ज ज्यादा चार्ज हो जाता है, हालांकि यह बिहार की ही नहीं बात है । यह किसी भी राज्य के आप निवासी हैं और कहीं पर भी आप जगह जमीन लेना चाहते हैं तो आपको चार्यस स्टांप ड्यूटी (Stamp duty) शहर एवं गांव के अनुसार से लगते हैं तो नीचे समझते हैं किस प्रकार से चार्ज लगते हैं।

ये भी पढ़ें:

Bhumi Jankari Bihar (key Highlights)

पोर्टल बिहार भूमि ( Bhumi Jankari Bihar )
शुरू की गयीबिहार राज्य सरकार
विभाग का नामभूमि विभाग (Bihar)
पोर्टल का लाभभूमि से जुड़ी सभी जानकारी
लाभार्थीबिहार राज्य के नागरिक
आधिकारिक वेबसाइटhttp://bhumijankari.bihar.gov.in/

जमीन रजिस्ट्री करने में कितना पैसा लगता है?

  • जमीन का सर्किल रेट पर निकला हुआ और भूमि के खरीदे हुए Rate से कम होगा तो Stamp Duty खरीदे गए मूल्य Calculate होगी।
  • गांव में जमीन खरीदने पर सर्किल रेट या जमीन का सरकारी रेट के हिसाब से 4 या 5 परसेंटेज के हिसाब से स्टांप शुल्क देना पड़ता है।
  • यदि जमीन का सर्किल रेट ₹100000 है तो 5 परसेंटेज स्टांप शुल्क के हिसाब से ₹5000 चार्ज देना होगा।
  • यदि 4 परसेंटेज स्टांप ड्यूटी शुल्क है तो आपको ₹100000 में ₹4000 का स्टांप ड्यूटी चार्ज देना होगा।
  • राज्य मे लगभग stamp duty के रूप में लेनदेन मूल्य का 6% और registration शुल्क के रूप में 2% मूल्य का भुगतान होता है।
  • स्टांप शुल्क के साथ-साथ अन्य तरीके के भीतर से आते हैं जैसे पेपर तैयार करवाना रजिस्ट्री हेतु वकील फीस एवं अन्य खर्चे शामिल हो जाते हैं।
  • रजिस्ट्री हेतु अपने वकील से सलाह लें जिससे आपको ज्यादा झंझट नहीं करना पड़ेगा क्योंकि यह बिना वकील के संभव नहीं है।

सिर्फ 5000 रुपए में कराएं रजिस्ट्री

नई स्कीम के तहत आप सिर्फ 5000 रुपए स्टांप शुल्क (5000 rupees stamp duty) और 1000 रुपए प्रोसेसिंग फीस देकर संपत्ति की Registry करा सकते हैं | यदि संपत्ति की कीमत 25 लाख रुपए है तो लगभग 2 लाख 10 रुपए का स्टांप लगता था | जिसे घटाकर अब महज 6000 रुपए कर दिया है |

जमीन का सर्किल रेट या सरकारी रेट कैसे पता करें

  • सर्वप्रथम आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं।
  • अब आपको होम पेज में अलग अलग तरीके के भीतर दिखाई देंगे जिसमें से आपको मूल्यांकन सूची के विकल्प पर सिलेक्ट कर लेना है।
  • अनिया अपना जनपद एवं कार्यालय का नाम सुने और कैप्चा कोड मूल्यांकन सूची देखें विकल्प पर क्लिक करें।
  • जैसे सिलेक्ट करेंगे तो आपकी मोबाइल फोन एवं कंप्यूटर स्क्रीन पर मूल्यांकन सूची पीडीएफ देखने को मिल जाएगी उसे आप डाउनलोड एवं सेव कर सकते हैं।
  • जैसे ही आप डाउनलोड करेंगे फिर उसे ओपन करके आप अपना सर्किल रेट चेक कर सकते हैं।

Bhumi Jankari Bihar ऑनलाइन देखें

अपने भूमि की जानकारी बिहार में रहने वाले लोग अब आसानी से ऑनलाइन भी देख सकते हैं, इसके लिए नीचे दिए गए स्टेप्स को फॉलो करें।

  • सबसे पहले ऑफिसियल वेबसाइट में जाये ।
  • आपके सामने नया पेज ओपन हो जायेगा, जैसा की नीचे image में देख सकते हैं |
 जमीन रजिस्ट्री की फीस बिहार
  • इसमें पूछी गयी जानकारी जैसे- मौजा, एरिया, खाता नंबर, प्लाट नंबर, पिता-पति का नाम आदि भर देनी होगी।
  • सारी जानकारी भरने के पश्चात Search Butten पर क्लिक कर देना है।
  • जैसे ही आप क्लिक करेंगे, आपके सामने भूमि की जानकारी Computer Schreen पर आ जायेगी।

FAQs: jamin ki registry

Bihar ई-सेवा पोर्टल की आधिकारिक वेबसाइट क्या है?

आधिकारिक वेबसाइट – state.bihar.gov.in है।

प्लॉट किसके नाम पर है कैसे देखे?

 जमीन की जानकारी, जमीन की रजिस्ट्री की जानकारी बिहार खाता संख्या, या खसरा नंबर के द्वारा जमीन के मालिक का पता ऑनलाइन कर सकते है।

प्रॉपर्टी रजिस्ट्री क्या हैं?

जब हम कोई प्लॉट खेत या जमीन लेते हैं तो तो उस प्रॉपर्टी को लेने के बाद हमें उस प्रॉपर्टी को अपने नाम कराना होता है। जिससे पता चल सके कि यह प्रॉपर्टी हमारी है। प्रॉपर्टी को नाम कराने के ही प्रक्रिया को प्रॉपर्टी रजिस्ट्री कहा जाता है।

बिहार में जमीन रजिस्ट्री का रेट क्या है?

बिहार में जमीन रजिस्ट्री का रेट सभी राज्यों का अलग अलग होता है, जाने के लिए अपने bhulekh naksha की आधिकारिक वेबसाइट में जाये और जमींन रजिस्ट्री फीस जान पाएंगे |

Leave a Comment

You cannot copy content of this page