जमीन रजिस्ट्री की फीस बिहार 2022 | रजिस्ट्री ऑनलाइन चेक @ bhumijankari.bihar.gov.in

रजिस्ट्री ऑनलाइन चेक bihar | रजिस्ट्री ऑनलाइन चेक बिहार | जमीन की रजिस्ट्री ऑनलाइन चेक बिहार | जमीन की रजिस्ट्री की जानकारी बिहार | Bihar Land-Property Registry | BhumiJankari Bihar | रजिस्ट्री की नकल कैसे निकाले | e-sewa portal 

दोस्तों आज के हम इस आर्टिकल पर बताने जा रहे हैं कि आप जब जमीन खरीदते हैं तो आपको कितना स्टाफ खर्च लगेगा और लैंड रजिस्ट्री में खर्च कितना आता है और स्टांप ड्यूटी कितनी लगती है बिहार लैंड रजिस्ट्री फीस इन सभी के बारे में डिटेल से जानेंगे।

जमीन की रजिस्ट्री की जानकारी बिहार

Jamin ki registry नहीं लगने वाले पैसे मुख्य रूप से स्टांप ड्यूटी चार्ज होता है जिसके माध्यम से रजिस्ट्री में खर्च आता है हालांकि सभी जमीनों के अलग-अलग अनुसार से स्टांप ड्यूटी लगाई जाती है जैसे कि गांव में जमीन खरीदने पर कम चार्ज लिया जाता है और शहरों पर जमीन लेने पर अधिक चार्ज लिया जाता है इसलिए ड्यूटी चार्जेस कम ज्यादा होते रहते हैं तो जमीन रजिस्ट्री करने में कितना पैसा खर्चा होता है लोग अक्सर पूछते हैं यह निर्भर करता है उनके जगह अनुसार जैसे की हम ने बता रखा है।

जमीन रजिस्ट्री की फीस bihar

रजिस्ट्री Fees की बात करें तो स्टांप ड्यूटी पर निर्भर करता है और आपकी जमीन के अनुसार चार्ज बढ़ जाता है जैसे कि गांव की जमीन है तो कम चार्ज लगेगा और शहर में जमीन खरीदते हैं तो उसके स्टांप ड्यूटी चार्ज ज्यादा चार्ज हो जाता है, हालांकि यह बिहार की ही नहीं बात है । यह किसी भी राज्य के आप निवासी हैं और कहीं पर भी आप जगह जमीन लेना चाहते हैं तो आपको चार्यस स्टांप ड्यूटी (Stamp duty) शहर एवं गांव के अनुसार से लगते हैं तो नीचे समझते हैं किस प्रकार से चार्ज लगते हैं।

ये भी पढ़ें:

बिहार भूलेख नक्शा ऑनलाइन चेक

रजिस्ट्री कैसे चेक करें अपने मोबाइल से

सरकारी जमीन का पट्टा कैसे बनाएं

Bhumi Jankari Bihar (key Highlights)

पोर्टल बिहार भूमि ( Bhumi Jankari Bihar )
शुरू की गयी बिहार राज्य सरकार
विभाग का नाम भूमि विभाग (Bihar)
पोर्टल का लाभ भूमि से जुड़ी सभी जानकारी
लाभार्थी बिहार राज्य के नागरिक
आधिकारिक वेबसाइट http://bhumijankari.bihar.gov.in/BiharPortal/Admin/AdvSearch/AdvSearch.aspx

जमीन की रजिस्ट्री की जानकारी बिहार

जमीन रजिस्ट्री करने में कितना पैसा लगता है?

  • जमीन का सर्किल रेट पर निकला हुआ और भूमि के खरीदे हुए Rate से कम होगा तो Stamp Duty खरीदे गए मूल्य Calculate होगी।
  • गांव में जमीन खरीदने पर सर्किल रेट या जमीन का सरकारी रेट के हिसाब से 4 या 5 परसेंटेज के हिसाब से स्टांप शुल्क देना पड़ता है।
  • यदि जमीन का सर्किल रेट ₹100000 है तो 5 परसेंटेज स्टांप शुल्क के हिसाब से ₹5000 चार्ज देना होगा।
  • यदि 4 परसेंटेज स्टांप ड्यूटी शुल्क है तो आपको ₹100000 में ₹4000 का स्टांप ड्यूटी चार्ज देना होगा।
  • राज्य मे लगभग stamp duty के रूप में लेनदेन मूल्य का 6% और registration शुल्क के रूप में 2% मूल्य का भुगतान होता है।
  • स्टांप शुल्क के साथ-साथ अन्य तरीके के भीतर से आते हैं जैसे पेपर तैयार करवाना रजिस्ट्री हेतु वकील फीस एवं अन्य खर्चे शामिल हो जाते हैं।
  • रजिस्ट्री हेतु अपने वकील से सलाह लें जिससे आपको ज्यादा झंझट नहीं करना पड़ेगा क्योंकि यह बिना वकील के संभव नहीं है।

सिर्फ 5000 रुपए में कराएं रजिस्ट्री

नई स्कीम के तहत आप सिर्फ 5000 रुपए स्टांप शुल्क (5000 rupees stamp duty) और 1000 रुपए प्रोसेसिंग फीस देकर संपत्ति की Registry करा सकते हैं | यदि संपत्ति की कीमत 25 लाख रुपए है तो लगभग 2 लाख 10 रुपए का स्टांप लगता था | जिसे घटाकर अब महज 6000 रुपए कर दिया है |

जमीन का सर्किल रेट या सरकारी रेट कैसे पता करें

  • सर्वप्रथम आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं।
  • अब आपको होम पेज में अलग अलग तरीके के भीतर दिखाई देंगे जिसमें से आपको मूल्यांकन सूची के विकल्प पर सिलेक्ट कर लेना है।
  • अनिया अपना जनपद एवं कार्यालय का नाम सुने और कैप्चा कोड मूल्यांकन सूची देखें विकल्प पर क्लिक करें।
  • जैसे सिलेक्ट करेंगे तो आपकी मोबाइल फोन एवं कंप्यूटर स्क्रीन पर मूल्यांकन सूची पीडीएफ देखने को मिल जाएगी उसे आप डाउनलोड एवं सेव कर सकते हैं।
  • जैसे ही आप डाउनलोड करेंगे फिर उसे ओपन करके आप अपना सर्किल रेट चेक कर सकते हैं।

FAQs: bhumi jankari bihar

Bihar ई-सेवा पोर्टल की आधिकारिक वेबसाइट क्या है?

आधिकारिक वेबसाइट – state.bihar.gov.in है।

प्लॉट किसके नाम पर है कैसे देखे?

 जमीन की जानकारी, जमीन की रजिस्ट्री की जानकारी बिहार खाता संख्या, या खसरा नंबर के द्वारा जमीन के मालिक का पता ऑनलाइन कर सकते है।

प्रॉपर्टी रजिस्ट्री क्या हैं?

जब हम कोई प्लॉट खेत या जमीन लेते हैं तो तो उस प्रॉपर्टी को लेने के बाद हमें उस प्रॉपर्टी को अपने नाम कराना होता है। जिससे पता चल सके कि यह प्रॉपर्टी हमारी है। प्रॉपर्टी को नाम कराने के ही प्रक्रिया को प्रॉपर्टी रजिस्ट्री कहा जाता है।

Leave a Comment

error: Content is protected !!