Madhya Pradesh 2024: क्या आप मध्य प्रदेश को अच्छे से जानते है?

आप Madhya Pradesh को MP कहकर बुलाते है, उसकी राजधानी Bhopal को जानते है, वर्तमान मुख्यमंत्री Shivraj Singh Chouhan आदि सभी जानते होंगे परन्तु आज के इस लेख में हम आपको इससे कई अधिक जानकारी देंगे।

साथ ही हम आपको Madhya Pradesh State से जुड़े ऐसी कई प्रकार की जानकारी देंगे जो आपको उत्सुक, गर्वानित तथा राज्य को अलग नजर से देखने का अनुभव देगा।

हमारे इस Proud Your States की Series में आपके राज्य के सम्बन्ध में कई रोचक जानकारी प्रदान करेंगे। यदि आप पाठक है, कंटेंट क्रिएटर, Fact Fans है तो आपको यह लेख अवश्य पसंद आएगा।

मध्य प्रदेश-द हार्ट ऑफ़ इंडिया

Welcome to Madhya Pradesh! यहां है भारत का ह्रदय, जहां इतिहास, कल्चर, नेचुरल गेम्स् एक साथ घूमते है। मध्य प्रदेश “Tiger State” एवं “The Heart of India” भी कहते है, वह जगह जहां आपको Curiosity भी Fire हो जाएगी।

यहाँ UNESCO World Heritage(यूनेस्को विश्व धरोहर) स्थल Khajuraho (खजुराहो) एबं Sanchi (साँची का स्तूप) साथ ही कितने बड़े कीले और मंदिर है, यहाँ पर वीरता और भक्ति की कहानियां सुनाई देती है। ग्वालियर किला से लेकर मांडू तक, हर कोने में कुछ न कुछा पुराना-नया जादू है।

Nature के lovers के लिए कान्हा, बांधवगढ़ और पाना जैसे National Parks की शानदार सुंदरता में Royals Bengal Tigers और Leopards का समक्ष प्रदर्शन देख सकते है।

मध्यप्रदेश की Landscape में wildlife enthusiasts और photographers अपने दौर को एन्जॉय कर सकते है।

राज्य की vibrant culture में घूमते हुए, लोक कथा-कहानिया, संगीत एवं नृत्य पा सकते है, साथ ही रंगीन त्योहारों को आसमान में चमकते देख सकते है।

Local पकवान को चख कर अपने taste buds को भी ट्रीट कर सकते है क्योंकि यहाँ की पकवान कला में आपको मजा आएगा।

दिल से हटके एडवेंचर पर आप निकल सकते है, भीमबेटका का प्रगैतिहासिक शिल्प कला को एक्स्प्लोर कर सकते है ओरछा में thrilling river rafting का मजाउठा सकते है।

जब शांति की तलाश हो, पचमढ़ी की खूबसूरत हिल स्टेशन में जाओ, जहां झरना और शांति से भरपुर के नज़ारे तुझे मंत्रमुग्ध कर देंगे।

मध्य प्रदेश वह जगह है जहां संभावनाएं का कोई अंत नहीं है। आइये इस राज्य के विषय में विस्तार से जाने।

मध्य प्रदेश का संक्षिप्त इतिहास

मध्यप्रदेश में प्रगैतिहासिक काल से मानव समुदाय एवं सम्पदा का की जानकारी मिलती है। 1970 में जब डॉ. विष्णु श्रीधर ने भीमबेटका शैलाश्रयों को खोजा तो उन्हें शिल्प कलाये मिली। यहां कुल 243 शैलाश्रयों प्राप्त हुआ है।

इससे हमे पता चलता है कि मध्यप्रदेश में प्रारंभिक मानव सम्पदा का विकास हुआ है।

मध्य प्रदेश प्राचीन काल के दौरान, यह मौर्य साम्राज्य का एक हिस्सा था, जो सम्राट अशोक के प्रभाव का गवाह था। सांची के उल्लेखनीय बौद्ध स्तूप और मठ इस युग के साक्षी हैं।

परमार , गुप्त तथा चंदेल जैसे राजवंश के अंतर्गत मध्यप्रदेश में कला, साहित्य और विज्ञान, असाधारण वास्तु प्रतिभा आदि का विकास होता है।

अतीत के ये अवशेष आज मध्य प्रदेश की समृद्ध प्राचीन विरासत के प्रमाण के रूप में खड़े हैं, जो आगंतुकों को इसके ऐतिहासिक खजाने का पता लगाने के लिए आकर्षित करते हैं।

दिल्ली सल्तनत और मुगल शासन: मध्य प्रदेश मध्यकालीन युग के दौरान दिल्ली सल्तनत और बाद में मुगलों के प्रभाव में आया। ग्वालियर का किला तोमर, लोदी और मुगल जैसे शासकों के लिए एक महत्वपूर्ण गढ़ बन गया।

मराठा साम्राज्य: शिवाजी और पेशवाओं के नेतृत्व में मराठों ने मध्य प्रदेश में अपना प्रभाव स्थापित किया था। भोपाल के नवाबों द्वारा शासित ऐतिहासिक शहर भोपाल भी इस समय के दौरान फला-फूला।

एमपी के एंग्लो-मराठा युद्ध के औपनिवेशिक युग के दौरान मध्य प्रदेश धीरे-धीरे ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी के नियंत्रण में आ गया।

इस क्षेत्र में 1857 के विद्रोह सहित ब्रिटिश शासन के खिलाफ विद्रोह और विद्रोह हुए, जिसे प्रथम स्वतंत्रता संग्राम के रूप में जाना जाता है।

1947 में भारत को स्वतंत्रता मिलने के बाद, मध्य प्रदेश का गठन 1 नवंबर, 1956 को हुआ था। था। इसमें से वर्ष 2000 में एक अलग राज्य के रूप में छत्तीसगढ़ के निर्माण किया गया।

मध्यप्रदेश भूगोल और स्थान

Geography & Location Of Madhya Pradesh:

मध्य प्रदेश भारत का दूसरा सबसे बड़ा राज्य है, जिसका क्षेत्रफल लगभग 308,000 वर्ग किलोमीटर (119,016 वर्ग मील) है। यह भारत के कुल भूमि क्षेत्र का लगभग 9.37% है। राज्य का विशाल आकार इसके विविध भूगोल में योगदान देता है, जिसमें पठार, पहाड़ और नदी घाटियाँ शामिल हैं।

मध्यप्रदेश

इस विशाल राज्य वर्तमान में 10 डिवीज़न में कुल 55 जिले है। इन जिलों में कई प्रसिद्ध शहर, स्थल एवं उनके विविध मार्ग सुविध स्थल आदि है। आप निचे इन जिलों की सूचि देख सकते है।

Madhya Pradesh Divisions & Districts List

Division Number Of Districts
भोपालभोपाल, रायसेन, राजगढ़, सीहोर, विदिशा (5 जिले)
ग्वालियरअशोकनगर, शिवपुरी, दतिया, गुना, ग्वालियर (5 जिले)
नर्मदापुरमहरदा, होशंगाबाद, बैतूल (3 जिले)
इंदौरबड़वानी, बुरहानपुर, धार, इंदौर, झाबुआ, खंडवा, खरगोन, अलीराजपुर (8 जिले)
जबलपुरजबलपुर, कटनी, नरसिंहपुर, सिवनी, छिंदवाड़ा, बालाघाट, मंडला और डिंडोरी (8 जिले)
रीवारीवा, सतना, सीधी, सिंगरोली (4 जिले)
सागरसागर, छतरपुर, दमोह, टीकमगढ़, पन्ना, निवाड़ी (6 जिले)
शहडोलशहडोल, उमरिया, डिंडोरी, अनूपपुर (4 जिले)
उज्जैनउज्जैन, देवास, आगर मालवा, शाजापुर, रतलाम, मंदसौर, नीमच (7 जिले)
चम्बलश्योपुर, मुरैना और भिंड (3 जिले)
  • मध्य प्रदेश में 51 जिले और 10 डिवीजन हैं।
  • मध्य प्रदेश में सबसे बड़ा विभाजन जबलपुर डिवीजन है, जिसमें सात जिले शामिल हैं।
  • मध्य प्रदेश में सबसे छोटा डिवीजन होशंगाबाद डिवीजन है, जिसमें तीन जिले हैं।
  • 27 अगस्त, 2007 को, भोपाल डिवीजन को दो डिवीजनों में विभाजित किया गया था: भोपाल और होशंगाबाद।
  • 14 जून, 2008 को, शाहदोल डिवीजन को रीवा और जबलपुर डिवीजनों से अलग करके बनाया गया था।
  • 2008 में दो नए जिले बनाए गए थे: 17 मई, 2008 को अलिरजपुर जिला, जिसे 24 मई, 2008 को झाबुआ जिले से अलग किया गया था, और सिदी जिले से विभाजित किया गया था।
  • 14 अगस्त, 2013 को राज्य मंत्रिमंडल द्वारा मध्य प्रदेश के 51 वें जिले के रूप में आगर मालवा को अनुमोदित किया गया था।
  • शजापुर जिले के उत्तरी भाग में चार तहसील 16 अगस्त, 2013 को अगर मालवा बनाने के लिए अलग हो गए थे।
  • शुरू में, आगर मालवा के जिला प्रशासन कार्यालय ने वनस्पति मंडी (बाजार) से काम करना शुरू कर दिया।

Coastline and Border Sharing States List

मध्यप्रदेश चारो तरफ से राजस्थान, उत्तरप्रदेश, गुजरात, महाराष्ट्र एवं छत्तीसगढ़ इन राज्यों से घिरा है इसलिए इसका स्वयं का कोई Costline (समुद्री बॉर्डर) नहीं है।

मध्य प्रदेश का सीमावर्ती जिला अन्य राज्यों के साथ सीमा साझा करता है:

StateBordering District (Madhya Pradesh)          
उत्तर प्रदेशसिंगरौली, सागर, गुना, दतिया, शिवपुरी, सीधी, रीवा, सतना, पन्ना, छतरपुर, भिंड, टीकमगढ़, निवाड़ी
राजस्थान मुरैना, शिवपुरी, गुना, राजगढ़, शाजापुर, मीमच, मंदसौर, रतलाम, झाबुआ, श्योपुर
महाराष्ट्रखरगोन, बड़वानी, बैतूल, खंडवा, छिंदवाड़ा, सिवनी, बालाघाट, अलीराजपुर, बुरहानपुर
छत्तीसगढ़सीधी, शहडोल, बालाघाट, मंडला, डिंडोरी, अनूपपुर, सिंगरौली
गुजरातझाबुआ, अलीराजपुर

Mountain Ranges and Rivers of Madhya Pradesh

पर्वत श्रंखलास्थानऊंचाईखनिजनदी
अरावली रेंजमध्य प्रदेश के उत्तर पश्चिम1158 m
सतपुड़ा रेंजनर्मदा के दक्षिण700 m to 1350 mग्रेनाइट और बेसाल्ट
मैकल अमरकंटकदक्षिण-पूर्व विस्तार सतपुड़ा1065 mबलुआ पत्थर और क्वार्ट्जनर्मदा
महादेवसतपुड़ा का पूर्वी विस्तार625 mबलुआ पत्थर और क्वार्ट्जविंध्याचल का पूर्वी विस्तार
कैमूर-भांडेरविंध्याचल का पूर्वी विस्तार450-600 mबलुआ पत्थर और क्वार्ट्जयमुना और सोन
  • मध्य प्रदेश मुख्य रूप से कुछ पहाड़ी क्षेत्रों के साथ एक पठारी क्षेत्र है। विंध्य रेंज और सतपुड़ा रेंज राज्य की प्रमुख पर्वत श्रृंखलाएं हैं।
  • सतपुड़ा रेंज नर्मदा नदी घाटी की दक्षिणी सीमा बनाती है। नर्मदा नदी, भारत की सबसे महत्वपूर्ण नदियों में से एक है, जो राज्य से होकर बहती है।
  • यह राज्य को दो अलग-अलग क्षेत्रों में विभाजित करता है: उत्तरी भाग, जिसे मालवा पठार के रूप में जाना जाता है, और दक्षिणी भाग, जिसे डेक्कन पठार के रूप में जाना जाता है।
  • मध्य प्रदेश की अन्य महत्वपूर्ण नदियों में चंबल, बेतवा, ताप्ती और सिंध शामिल हैं।
  • मध्य प्रदेश एक स्थलरुद्ध राज्य है और इसकी कोई तटरेखा नहीं है। यह चारों ओर से अन्य राज्यों से घिरा हुआ है।

जलवायु और मौसम के पैटर्न

मौसममहीनेजलवायु
गर्मीमार्च से जूनगर्म और शुष्क, तापमान अक्सर 40°C से अधिक होता है।
वर्षा July to Septemberमध्यम से भारी वर्षा, कृषि के लिए महत्वपूर्ण
ठंडीOctober to Februaryठंडा और सुखद, तापमान 10°C से 25°C के बीच

मध्य प्रदेश सांस्कृतिक विरासत और परंपराएं, तथा बोली जाने वाली भाषाएं

मध्य प्रदेश के बारे में बात करते है तो यहाँ के Rich Cultural Heritage एवं Diverse Traditions के बारे में जानना चाहिए जो बहोत प्रसिद्ध है। राज्य में कई जातीय समुदाय है जिनके अद्वितीय रीति-रिवाज हैं। ये इस प्रकार है।

सांस्कृतिक विरासत और परंपराएं

Folk Dance लोक नृत्य:

  • राज्य में कई लोक नृत्य है जो देश भर में फेमस है जैसे गोंड आदिवासी नृत्य, मटकी नृत्य, कर्मा नृत्य, बरेदी और राई नृत्य आदि।
  • ये सभी नृत्य इन समुदाय को अलग पहचान दिलाती है।

Music संगीत:

  • राज्य के लोक गीत ग्रामीण जीवन से जुड़ा है।
  • इसमें भील गीत, कालबेलिया और बुंदेली गीत जैसे लोकगीत बहोत पॉपुलर है।
  • साथ ही ध्रुपद और ख्याल जैसे शास्त्रीय संगीत भी महत्वपूर्ण हैं।

Handicrafts हस्तकला:

  • मध्य प्रदेश अपनी सुन्दर हस्त कलाओ के लिए भी बहोत फेमस है।
  • यहां स्थानीय कारीगरों की शिल्प कौशल और कलात्मक कौशल को शोकेस किया जाता हैं।
  • कुछ प्रमुख हस्तशिल्प में गोंड पेंटिंग, बांस और बेंत शिल्प, ढोकरा कला, बाग प्रिंट, चंदेरी और माहेश्वरी टेक्सटाइल शामिल हैं।

Festivals त्यौहार:

  • मध्य प्रदेश के लोग साल भर में कई त्यौहार सेलिब्रेट करते है।
  • राज्य में दिवाली, होली, नव रात्रि, मकर संक्रांति, तीज,ईद जैसे बड़े त्यौहार के साथ अन्य त्यौहार भी धूम धाम से मनाए जाते है।
  • यहां के लोकरंग महोत्सव, भगोरिया हाट, उज्जैन कुंभ मेला, मालवा उत्सव, नागाजी मेला, चेठियागिरी विहार, बुंदेली उत्सव, हरेली, आदि त्यौहार भी महत्वपूर्ण है।

Cuisine भोजन:

  • मध्य प्रदेश एक विविध पकवान अनुभव ऑफर करता है।
  • पारंपरिक व्यंजन जैसे दाल बाफला, भोपाली गोश्त कोरमा, कुसली, भुट्टे का कीस और मालपुआ यहां लोकप्रिय हैं।
  • राज्य के अन्य व्यंजन मालवा, ग्वालियर और बुंदेलखंड रीजन से फ्लेवर मिलाते हैं, और हर क्षेत्र की अपनी खास डिश होती हैं।

Language Spoken In Madhya Pradesh

मध्य प्रदेश में बोला जाने वाला राजभाषा हिंदी है और ये राज्य की संचार की प्राथमिक भाषा है। विविध जातीय समूहों की वजह से और भाषाएं बोली जाती हैं। कुछ प्रमुख भाषाएँ जो मध्य प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों में बोली जाती हैं होती हैं, वो है:

  • मालवी: मालवा क्षेत्र में बोला जाता है।
  • बुंदेली: बुंदेलखंड क्षेत्र में बोला जाता है, जिस्मे मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश के हिस्से शामिल होते हैं।
  • बघेली: बघेलखंड क्षेत्र में बोला जाता है, जिस्मे मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश के हिस्से शामिल होते हैं।
  • निमाड़ी : मध्य प्रदेश के निमाड़ क्षेत्र में बोला जाता है।
  • भिलोदी: भील जनजाति द्वारा मध्य प्रदेश के विभिन्न हिस्सों में बोला जाता है।
  • गोंडी: गोंड जनजाति द्वारा मध्य भारत में बोला जाता है, जिस्मे मध्य प्रदेश के हिस्से भी शामिल होते हैं।
  • कालतो : मध्य प्रदेश के बैतूल जिले के कल्टो जनजाति द्वारा बोला जाता है।

Leave a Comment

You cannot copy content of this page